Wednesday, April 6, 2016

देखते ही उपवन, याद आती हो तुम (With English Translation) You capture my Mind, on Visit to Garden



बसंत अपने यौवन पर है 
सुबह का समय है 
सूरज बाँह पसारने को है 
मेरा उपवन महक रहा है 
चिड़ियों से चहक रहा है 
दे रहा हूँ पौधों को पानी 
अपने शब्द और वाणी 
पूछता हुआ हाल उनके 
बहुत याद आ रही तुम, 
बार बार तिनके तिनके

अँगूर लता बौरा रही है 
हरियाले वस्त्रों में लिपटी हुई  
मधुर भविष्य की कल्पना में 
जैसे तुम खो जाती हो अल्पना में 
लाज के आँचल में सिमटी हुई 

नरगिस के फूलों की लालिमा 
चुराए है तुम्हारे पांवों की आलता 
पास ही हैं महकती वेला के झुरमुट 
श्वेत पुष्प जैसे तुम्हारी पाजेब के घुँघरू 

अन्जीर का पौधा सयाना हो गया है 
बड़े-बड़े पत्तों के बीच छिपा रखे हैं 
नन्हे नन्हे कच्चे फल 
तुम भी तो अपने आँचल में छिपाये रखती हो 
मचलाते झूमते कर्ण-कुण्डल

आलू बुखारा अपने यौवन पर है 
हज़ारों फलों से भरा हुआ
जो अभी कच्चे हैं 
इनके पकते ही टोलियाँ आने लगेंगी 
गाँव में जो भी बच्चे हैं 
करतीं तुम भी मेरे साथ यदि 
प्रतीक्षा इनके पकने की 
चाहत में इनके चखने की 
तो कितना अच्छा लगता
तो बगीचा कितना फबता   

लोकाट का पौधा अभी बच्चा है 
अपने हाथ उठाये कहता सा लगता है 
माँ, उठालो मुझे गोदी में 
बिना तुम्हारे यह भी मुझे ही सुनना पड़ता है 

पर्वती जंगल से लाया था बीज कुछ के 
एक पौधे पर झलक रहे हैं बसन्ती फूल 
याद आईं तुम, जब पहने थे स्वर्ण झुमके 
हरियाले परिधान में, तुम गयीं क्या भूल 

तेजी से बढ़ रहे विशाल पौधे पर
पकने लगे हैं मधुर शहतूत
तुम्हारे अधरों जैसे 
कुछ में खटास भी है 
जैसे कोई अश्रु रिस आया हो अधरों तक 

गुलनार पूरी बहार पर है 
लदा  हुआ नारंगी फूलों से 
धरती पर भी बिखेर रखे हैं अनेकों फूल 
कहीं मिट्टी ना छू जाये तुम्हारे पांवों को    

बड़ी मुश्किल से पाल रहा हूँ 
आठ पौधे जैतून के
ये भी पक्के हैं अपनी धुन के 
फल देंगे तभी झूमके 
जब आकर रहोगी तुम, पास इनके 

कमल ताल में इस बार बहार नहीं आयी है 
बार बार पूछता है मुझसे -
क्यों आँखों में मेरी रुसवाई है 
बताओ तुम्ही, क्या उत्तर दूँ इस नादान को 
कैसे कहूँ अभी तैयार नहीं हो तुम एहसान को

English Translation by the Poet

You capture my Mind, on my visit to Garden

On Seeing the Garden, You come to my Mind
The Spring is at its best surprise
Morning time, The Sun is about to rise
My Garden spreading fragrance
Chirping with birds elegance
I am watering plants of choice
And using my words and voice
For asking them their well-being
Missing you very much, my Darling!
*
Grapevine is in fluorescence,
Robed in green brilliance
Imagining sweet grapes tomorrow
Hidden in between leaves furrow
Like the sweetest sips
From kissing your lips
*
Redness of Narcissus flowers
Stolen from your ornamented feet
Nearby white Jasmine flowers fragment
Remind me of ringing ornaments in your feet
*
Fig plant is grown-up now
Hiding unripe tiny fruits under big leaves
Like you keep your inviting ear ornaments
Behind your headgear sheet
*
Plum tree is at its best
Laden with thousands of fruits still unripe
As these come to ripen
Children come to the garden
If you too were here with me
Fruits would be ripening best
How nice that would have been
How fabulous the garden would have felt
*
Peach plant is still a child
Appears saying to you with raised hands
Mom, lift me up to your lap
Without you, I am to listen even this trend
*
Some seeds brought from hills during showers
One plant grown has deep yellow flowers
Remind me of you wearing golden ear ornaments
Along with your green garments
*
On a fast growing large plant
Mulberry fruits are ripening fast
Sweet like your lips, some fruits still sour
Like a tear drop traversing to your lips core
*
Male Pomegranate is in full fluorescence
Laden with sharp orange flowers with no seed
Scattering many flowers on the ground
Not to allow mud to touch your feet
*
Rearing with care and difficulty
Eights plants of Olive vowed to come to fruition
Only when you come to live with them
And make them learn lessons in tuition
*
This year, Lotus pond has no flowers
Asking me again and again, why my eyes are so sad
Tell me please, what answer I give to this innocent
How I say that you are still not prepared

***

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...